ते – सृजित अवस्थी

पीलीभीत। कृष्ण जन्माष्टमी के दिन श्री कृष्ण के बाल गोपाल स्वरूप की देखभाल की जाती है। भक्तगण श्री कृष्ण की विधि से पूजा के साथ व्रत करते हैं। ट्विट, जन्माष्टमी पर कृष्ण भक्त लड्डू गोपाल के नन्हें प्रारूप के दर्शन के लिए मुहूर्त हैं।

वर्षा के उत्तर प्रदेश के तट पर वातावरण के लिए श्री कृष्ण का जन्म होता है। पर्यावरण कृष्ण जन्माष्टमी के दिन धूम से पूजा-पाठ है। जन्माष्टमी पर्व के जन्म के बाद शिशु पूर्ण रूप से वृंदावन के जैसा होता है। दृढ विश्वास के साथ यह अद्भुत लग रहा है। ऐसे में अगर आप चाहें तो दशमलव में पढ़ सकते हैं।

पुरातनता राधारमण मन्दिर
पीलीभीत के बाजार में राधारमण का प्राचीन कालक्रम है। मंदिर का निर्माण भवन था के राजा लालता प्रसाद और हरि प्रसाद ने। मन में प्रकाशित होने के बाद भी मन में मन फल आने लगा। मनोविकार के पूर्ण होने के बाद. का निर्माण

पीलीभीत में पकाने की विधि से पूजा
पीभीत में राधारमण मंदिर में ठीक वृंदावन से शुरू होते हैं। मन्दिर के सुधीर चंद्र गोस्वामी

टैग: भगवान कृष्ण, पीलीभीत समाचार, श्री कृष्ण जन्माष्टमी



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.