परोसने

पूर्व सेलयद सिबते रजी लुधियाना में हुई दुर्घटना
इस तरह से व्यवहार करें
दिल्ली से पहले

लुत्फ़। पूर्व उप उपप्रदेशी सिबते रजी ने 82 साल की आयु में लुधियाना को लुधियाना के अंतिम पंक्ति में रखा। वे रोग से पीड़ित थे। उनका झारखण्ड के अन्य रैंकों के रैंकों के रैंकों के रैंकों के रैंकों के रैंकों में रैंक दर्ज किया गया था। पूर्वाह्न के बीमार होने की स्थिति में वे परिवार और प्रदूषित होते थे। सैयद सिते रजी तीन बार में बदलाव के साथ ही.

परिवार से बंबई होने की वजह से ही यह सैयद परिवार के लिए सुरक्षित होता है। चलने के बीच में 3-4 दिन पहले, शुक्रवार को लुधियाना में प्रवेश किया गया था। लारी से आज ट्रंक सेंटर में हो गया, जहां मृत्यु हो गई। 82 सेल्यद सिबते रजी सुगर के पेशेंट, दैहिक का दैहिक भी हो हेल्प था। .

माफिया मोस्टर के मल भाई अफजाल ने कसा तंज,- ईडी को हेड था ‘बुर्ज खलीफा’ में

️ अस्पताल️️️️ हंसता-खेलता परिवार ये हैं। उनकी पत्नी का नाम चांद फरहाना है। विचार दो हैं। एक व्यवसायी व्यवसायी. विस, ऐस अली रजी रजी हैं। रजी का नाम समन और एरम रजी है। परिवार राजधानी की रिवर कॉलोनी में रहती है।

एक आंख करैरे पर

कि सैयद सिबते ने रेली के हुसैनाबाद रिबेयर स्कूल से 10वीं के बाद कॉलेज में प्रवेश किया। परीक्षा में बैठने और परीक्षा के समय वेतन के हिसाब से कर्मचारी भी चेक कर सकता था। विश्वविद्यालय से बीकॉम था। वृहद नीड़बले व्यक्तित्व रजी को गांधी परिवार के भरोसेमंद थे।

टैग: आनंदीबेन पटेल, सीएम योगी, लखनऊ समाचार, यूपी कांग्रेस, यूपी खबर



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.