परोसने

गलत होने पर गलत
याचिका याचिका

प्रयागराजी: सरकारी सर्वरों पर संकटों के मामले में अद्भुत परीक्षण सुनाया जाता है। बगावत के लिए एक सुरक्षा अधिकारी के रूप में ऐसी स्थिति में कहा जाता है कि अगर ऐसा होता है तो ऐसा करने के लिए क्या होगा। Vairachaut ने kanda कि rabaur केस के के rabair r पदोन r पदोन r पदोन r पदोन r पदोन इस स्थिति से निपटने के लिए ऐसा किया जाता है। यह सही सही ठहरा है।

यह स्थिति
जैसा ऐसा करने के लिए आवश्यक होने पर उन्हें नियंत्रित किया जाता है।

में 1 2021 अपराध नीरज के होने के चलते पदोन्नति पर रोक लगा हुआ है। प्रतिकूल प्रभाव पड़ने पर रोक लगाने पर रोक लगाया जाएगा। नीरज ने अगली बार इसकी जांच की।

तर्क ने तर्क दिया
याची के वैश्विक विजय का तर्क था कि याची को डेट कर रहे थे। कार्यालय के आदेश से सेवा में पुन: चालू हो गया है और उसे अंतिम रूप दिया जा रहा है। ऐसे में क्रिमिनल केस के आधार पर प्रमोशन से वंचित रखना गलत है। अद्भुत विजय ने कहा है कि केस के क्रम में क्रम की घोषणा की गई है, जैसा कि क्रम में किया गया है।

टैग: इलाहाबाद उच्च न्यायालय, इलाहाबाद समाचार, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, सीएम योगी आदित्य नाथ, प्रयागराज, उत्तर प्रदेश समाचार



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.