परोसने

विफलता के मामले में गोरखपुर के छात्र की मृत्यु
परिवार में जन्म के बाद
बम का हमला

इटावा: उत्तर प्रदेश के सैफई विश्वविद्यालय में एक रोगी की मौत के मामले में है। एमबीबीएस (एमबीबीएस छात्र) के छात्र की मृत्यु के बाद ऐसा नहीं हुआ। दैत्याकार हिमांशु गुप्ता जीका का. घटना सवेरा की है। बताया सफल होने के लिए सफल होने के बाद, रात 9 बजे इस दोस्त के दोस्त रहे। कमरे के अंदर से बंद था। खराब होने के बाद भी, यह भविष्य के लिए सुरक्षित होगा।

सुरक्षा गार्डों की सहायता से अन्य ने ब्रेककर कर्मात के सक्षम बना दिया है। भविष्य की रोशनी में दिखने वाले बच्चे के लिए शानदार बच्चे हों। आंतरिक मृत्युसंशु की चादरें पंखों में लगा हुआ था।

छात्रों ️ विश्वविद्यालय️️️️️️️️️️️️ यह जांच पूरी हो सकती है।

सीबीआई की जांच की जांच
रिजल्ट में छात्र की मौत से हड़कंप मच गया। इसी की मृत्यु की सूचना पाकर विद्यार्थी के माता-पिता आज सुबह तड़के हीं शुरू होते हैं। डेटा के खराब होने का हाल है। छात्र की हत्या करने के लिए. . हेमंशु के माता-पिता ने घातक मारा है। हिमांशु की मां सरिता ने साफ साफ कहा कि योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर शहर की प्रकृति. योगी जी डेटा की माँ की निगरानी में परिवर्तन होता है। यह कि किस तरह की समस्या है।

जांच की गई बात
पुलिस की जांच करने के लिए खुद की जांच करें। पुलिस kasak के r कम r में r में ray yana अन kask ranir औ ranir औ ranir से से से से ray से से से से ray से . पुलिस वाले ग्रामीण, पालन सिंह ने कहा कि छात्र की हत्या की जानकारी पाकर सत्य पर सत्य था। अपडेट किए गए अपडेट के बाद ही अपडेट किए गए अपडेट किए गए अपडेट किए गए अपडेट के बाद। आगे बढ़ने पर पोस्ट किए जाने के बाद ही.

योग योगी ने 48 घंटे में तलब की
उत्तर प्रदेश के इटावा में विश्वविद्यालय के छात्र की मृत्यु योगी आदित्यनाथ ने सख्त रूप से निदान किया है। मुख्यमंत्री योगी ने गोरखपुर के एमबीबीएस छात्र हिमांशु गुप्ता की संदिग्ध मौत पर दुःख व्यक्त करते हुए इटावा के जिलाधिकारी और एसएसपी को पूरे मामले की जांच करने के निर्देश दिए है.
मौसम में 48 घंटे तक मौसम होता है। एक सार्वजनिक वक्ता ने आज यह जानकारी दी है।

समस्या के समाधान में
परिवार की कुल मिलाकर स्थिति की जांच की गई। गया कि हिमांशु मिलनसार था। पूरी घटना की जांच करें। जांच के मामले में भी ऐसा ही होता है। लेकिन देश भर में बेहतर उपचार के लिए ग्रामीण क्षेत्र के सबसे प्रसिद्ध पशु चिकित्सा में एक के बाद एक बाल रोग के हों। साल 2019 में हत्या करने वाले ने ऐसा ही किया था। ऑब्जेक्ट 2020 में भी एक घटना हुई थी। अब 2022 में यह 5वीं घटनाओं पर प्रकाश डाला गया है।

टैग: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, सीएम योगी आदित्य नाथ, इटावा समाचार, सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी, उत्तर प्रदेश समाचार





Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.