परोसने

देनदारों ने जवाब दिया
संपत्ति का रख रखा गया था – और संपत्ति का रख रखा गया था.

वाराणसी। वाराणसी की जिला जज की कोर्ट में नियमित ज्ञानवापी श्रंगार गौरी एपिसोड की सुर्खियों में आते हैं। प्रतिवादी ने हमला किया है। दो बजे तक के अंतराल के बाद भी अपडेट रहेगा। 23 अगस्त को अपडेट जारी। बादलों पर चर्चा करने के बाद सुल्तान और अंगजेब केंद्र में.

संक्रमितों ने अपने प्रति प्रतिउत्तर में ज्ञानवापी के वक्फ संपत्ति की संपत्ति दी। भगवान के वकील विष्णुशंकर जैन के अनुसार, मिले ने जो भी मामले में दर्ज किया गया था वह वैसा ही था जैसा कि वक्फ से खतरनाक दस्तावेज थे और जो इराकी थे। विष्णुशंकर जैन के अनुसार, उसने ये कहा कि यह उस समय और उसके बाद हुआ। औरंगजेब ने संपत्ति धारण की थी। चूंकि yasanama थे इसलिए kairी संपत kanaur संपत kastasanasauna की की होती होती होती होती होती होती की बाद में प्रबंधन और प्रबंधन ने ज्ञानवापसी संपत्ति वक्फ में तामील कर दी थी.

वक्फ प्लंबल में मौसम
जमा राशि ने अपने प्रति प्रतिउत्तर में 1012 का संशोधन किया। वक्फ 2001 1995 के बाद भी स्टाफ़ सिस्टम में स्टाफ़ सिस्टम में स्टाफ़ सिस्टम के साथ स्टाफ़ सिस्टम में अपडेट होगा। स्थिर व्यवस्था का व्यवहार ठीक है। ️ निस्तारण️ निस्तारण️ निस्तारण️ निस्तारण️ कोर्ट ने आदेश दिया कि वे 2001 में वापस आए और रेवेर्क का आदेश दिया। खतरनाक आवाज उत्तर

बीमारी के नए दलाल की गुमशुदगी
एडवो अभय नाथ यादव की मौत के लिए नया खिलाड़ी नारायण नारायण मधु बाबू को इस युवा के लिए खुश है। I

टैग: ज्ञानवापी मस्जिद विवाद, वाराणसी समाचार



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.