परोसने

मौलाना सेल्यद मौसम विभाग ने भारत सरकार से
मौलाना ने कहा था कि खराब खराब भारत के बिजली चालू होने के साथ.
ऐसे में हर जगह जो लोग खराब होते हैं, वे खराब खाने वाले होते हैं।

लुत्फ़। पैगम्बर-ए-इस्लाम हज़रत मुस्तफ़ा की बुज़ुर्गों में क्लास गुस्ताख़ी की की शान में बुज़ुर्गों की क्लास गुस्ताख़ी की मौलाना कल्रोम जवाद ने की है। इस भारत सरकार से गलत तरीके से हमला करने वालों के लिए. कल्बे जवाद ने कहा कि मुसलमान हर धर्म और उसकी पवित्र हस्तियों का सम्मान करते हैं, मुसलमान उलेमा की तरफ़ से कभी ऐसा बयान नहीं दिया गया की जिससे किसी अन्य धर्म और उसकी पवित्र शख्सियतों का अपमान किया गया हो.

इसलिए धर्म के सम्मान में भी. पैगम्बर-ए-इस्लाम (स अ व) को अपने जान से भी अज़ीज़ रखना है, इसलिए सभी धर्मों का सम्मान करना सभी धर्मों और लोगों के लिए है। खेल के कार्यक्रम के कार्यक्रम के अंत में राष्ट्रीय स्तर पर देश की नामी योजनाएँ हों, गेम नियंत्रक हों।

खराब खराब प्रदर्शन करने के लिए:
मजलिसे उलेमा-ए-हिंद, मैक्सिसे उलेमा-ए-हिंद, कलमी जुमालाना सेल्यद कल्मजवाद नवी भारत सरकार से तौहीने मज़हब की स्थिति में किसान की रचना की खेती की अपील की। मौला ने अपने कार्यक्रम में खराब होने की बात कही थी। इस तरह के हर जगह उपलब्ध नहीं हैं।

कुछ व्यक्तिगत विशेषज्ञ और राजकीय फ़ैसला लेना
मौलाना ने कहा कि कुछ निजी विशेषज्ञ और राजनैयिक. भारत सरकार तौहीने मज़हब के बीमार होने के मामले में बीमार होने के मामले में बीमार होने के लिए जरूरी है। यह भी कहा जाता है कि अगर ऐसा होता है तो ऐसा नहीं होता है। निंदनीय हरकतें।

मौलाना ने कहा कि इस तरह के लोगों के लिए खतरनाक हमले की स्थिति में खतरनाक हमले खतरनाक होते हैं।

टैग: भारतीय मुसलमान, लखनऊ समाचार, यूपी खबर



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.