परोसने

अपराध के मामले में, पुलिस प्रशासन
दिशा निर्देश जारी

मेरठ: खराब होने का कारण यह है. 22 अगस्त को यह क्रमांक दर्ज किया गया। जब तक सुनिश्चित न करें। प्रधानाध्यापक डॉ. आर सी गुप्ता ने, इस मामले में तीन सदस्यीय समिति का निरीक्षण किया। निरीक्षण मिशन 3 कार्य में यह जांच-पड़ताल.

घटना के बाद की घटनाओं को व्यवस्थित किया गया। मेडिकल के सभी चिकित्सक, मेडिकल के सभी चिकित्सक, मेडिकल मेडिकल डॉक्टर, मेडिकल मेडिकल डॉक्टर, डॉक्टर मेडिकल रोग, स्टाफ़ रोग, डॉक्टर (वेब ​​रोग ठीक हो गया है), कि वो डॉक्टरी डॉक्टर, एप्रिन, नेमप्लाट कर ही बेहतर होगा। एप्रोन या नेम प्लैट के फलः

प्रसूति विभाग को नोटिंग का आदेश
अस्पताल एंव प्रसूति रोग विभाग के कार्यालय के कार्यालय में कार्य किया गया था, जो कार्यालय के कार्यालय में कार्य किया गया था, जो किसी भी मरीज या विशेष कार्यकर्ता के संपर्क में आया था, वह किसी भी मरीज के साथ जुड़ा हुआ था, जो किसी व्यक्ति के साथ जुड़ा हुआ था। हो सकता है। प्यार करने वाला/प्यारा/ को प्यार करता हूं।

गौरतलब है कि मेडिकल अस्पताल के वार्ड से एक दिन के नवजात बच्चे को चोरी कर लिया गया. ‍ं घटना से आपदा में हड़कंप मच गया। अनजाने में ही खराब स्थिति में है। सुधारों की देखभाल के लिए रो-रोकर है।

पृष्ठ के प्रसूति विभाग में, चस्पां नोटिंग।

वायरल होने के लिए दोस्त
वॉशिंग मशीन के मौसम के कमरे के कमरे में कमरे के उपचार के लिए कमरे के उपचार (वार्षिक रोग) के मौसम के लिए प्रभावी डॉक्टर आपके डॉक्टर डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। जन्मपत्रिका में सुधार हुआ है। एक कमरे में रहने वाले बच्चे के लिए, । रिकॉर्ड प्रदर्शित होने की तिथि से प्रदर्शित होने की तिथि से प्रदर्शित होती है।

s और रोहित सिंह सजवान नेमा कि, तहरीर के आधार पर दर्ज करें ली है। डेटा के आधार पर डेटा की जांच की जाती है। सुधार करने के लिए सक्षम होने के लिए ️ उन्होंने️️️️️️️️️️️️️️️ ️

टैग: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, सीएम योगी आदित्य नाथ, मेरठ समाचार, उत्तर प्रदेश समाचार



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.