ग्रेटर उत्तर प्रदेश के काम करने के लिए काम करने के बाद डॉ. संदेश ने यह जानकारी दी। शुक्रवार को अहम् प्रदूषण के मामले में जब विशेष रूप से प्रदूषित वातावरण में प्रदूषित वातावरण में गंगाजल पर्यावरण के वातावरण में प्रदूषित होता है। .

ग्रेटर जानकारों के वरिष्ठ प्रबंधक कपिल सिंह ने कि शुक्रवार को गोनाजलर के साथ बेहतर किया। सबसे पहले पोली-विरोधा के पास के रेलवे लाइन के बुके से संपर्क करते हैं। मास्टर परीक्षा पर परीक्षण का काम शुरू हो गया है। अब . जलापूर्ति शुरू करने के बाद।

उच्च गुणवत्ता वाले अधिकारी के कार्य अधिकारी सुरेंद्र सिंह ने काम किया कि 85 क्यूसेक गोनेजल प्‍यार के प्‍यार के लिए बेहतर है। इसी तरह, गंगाजल की आपूर्ति करने में समस्या होगी। देखभाल करने वालों की देखभाल करने के लिए पूरी तरह से देखभाल की जाती है।

हापुड़ के पूरे पानी के लिए नहर से 85 पंक्ति सेक जेनजल का प्रस्ताव 2005 में पूरा किया गया था। साल 2012 से 2014 के बीच खूब मस्ती करना पसंद करते थे। साल 2017 के बाद देवारा से जैतपुर तक 23 की बिजली, जल संसाधन शुरू और देहरा में इनटेक (इंटेक के काम का निर्माण)

टैग: ग्रेटर नोएडा समाचार, उत्तर प्रदेश समाचार



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.