देश के विदेशी मुद्रा भंडार में यह पांचवीं साप्ताहिक गिरावट है।

मुंबई (महाराष्ट्र):

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के आंकड़ों से पता चलता है कि 2 सितंबर को समाप्त सप्ताह के लिए भारत का विदेशी मुद्रा (विदेशी मुद्रा) भंडार 7.941 बिलियन डॉलर घटकर 553.105 बिलियन डॉलर हो गया, जो लगभग दो वर्षों में सबसे निचला स्तर है।

देश के विदेशी मुद्रा भंडार में यह पांचवीं साप्ताहिक गिरावट है। 26 अगस्त को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 3.007 अरब डॉलर और पिछले सप्ताह 6.687 अरब डॉलर घट गया था।

देश के विदेशी मुद्रा भंडार में हाल के महीनों में तेजी से गिरावट आई है क्योंकि आरबीआई रुपये की रक्षा के लिए मुद्रा बाजारों में हस्तक्षेप करना जारी रखता है।

भारतीय रिजर्व बैंक के साप्ताहिक सांख्यिकीय पूरक के अनुसार, विदेशी मुद्रा संपत्ति, जो विदेशी मुद्रा भंडार का सबसे बड़ा घटक है, 2 सितंबर को समाप्त सप्ताह के दौरान 6.527 अरब डॉलर घटकर 492.117 अरब डॉलर रह गई। विदेशी मुद्रा संपत्ति में 2.571 अरब डॉलर और 5.779 डॉलर की गिरावट आई थी। पिछले दो हफ्तों में क्रमशः अरब।

अमेरिकी डॉलर के संदर्भ में व्यक्त की गई, विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों में विदेशी मुद्रा भंडार में रखे गए यूरो, यूके के पाउंड स्टर्लिंग और जापानी येन जैसी गैर-डॉलर मुद्राओं की सराहना या मूल्यह्रास का प्रभाव शामिल है।

समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार के सभी घटकों में गिरावट आई।

2 सितंबर को समाप्त सप्ताह के दौरान सोने के भंडार का मूल्य 1.339 अरब डॉलर घटकर 38.303 अरब डॉलर रह गया।

आरबीआई के आंकड़ों से पता चलता है कि समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष में भारत के विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) का मूल्य 50 मिलियन डॉलर घटकर 17.782 अरब डॉलर रह गया।

आरबीआई साप्ताहिक सांख्यिकीय अनुपूरक के अनुसार, 2 सितंबर को समाप्त सप्ताह के दौरान अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में भारत की आरक्षित स्थिति 24 मिलियन डॉलर घटकर 4.902 बिलियन डॉलर हो गई।

(यह कहानी NDTV स्टाफ द्वारा संपादित नहीं की गई है और एक सिंडिकेटेड फ़ीड से स्वतः उत्पन्न होती है।)



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.