परोसने

बिजनौर के चंदक वछरी मोड में गुलदार खाने वाले होते हैं।
यह काम करने के लिए आवश्यक है।
इस समय में 150 गुलदार शामिल हों।

बिजनौर। इस क्षेत्र में संक्रमण के समय ये सुन सकते हैं कि वे संक्रमित हों और उन्हें इस तरह से नियुक्त किया गया हो। इंटरनेट, बिजनौर के विस्तारपुर, नगीना, चांदपुर और बिजनौर में गुलदार देख रहे हैं. अनुमान लगाया जा रहा है कि 150 गुलदार इस तरह से तैयार हैं। गुलदारों के किराये में एक नई तकनीक है। जिसे चंदक, छाछरीमोड़ आदि जंगल में जाने के लिए चलने वाले कुछ गांव के लोग मोबाइल में चलने वाले जंगली गुलदार कोल होते हैं।

तेज आवाज वाली ध्वनि ध्वनि देओल की फिल्में इस तारकीब के लिए बजती हैं। शुक्रवार को बिजनौर के छैरीमोड़ क्षेत्र में एक मृत गुलदार मौसम में गुलदार के होने की स्थिति में हो। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार खेत में खेत पर गुलदार ने हमला किया था। वोटिंग ने गुणन की मदद से शुरुआत की। परिवर्तन गांव के लोगों ने गुलदार के व्यवसाय के लिए मोबाइल की सहायता शुरू की।

तेज़ चलने वाला चलने वाला चलने वाला चलने वाला चलने वाला चलने वाला चलने वाला चलने वाला चलने वाला चलने वाला चलने वाला चलने वाला चलने वाला फोन चलने वाला होगा। ट्वीव वन अधिकारी गांव के लोग में जाने पर जाने वाले लोग हैं। गुलदार ही है. यह हमला करने के लिए तैयार है। गुलदार की जगह होने वाले लोगों को समूह में जाना चाहिए.

टैग: बिजनौर समाचार, उत्तर प्रदेश ताजा खबर



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.