वाराणसी। ज्ञानवापी-शृंगार गौरी मामले में विष्णु भगवान विष्णु भगवान विष्णु परिस्थितियों में फैसला सुनाने वाला जिला जस्ते विश्वेश की सिंगल ने एक केस को स्थायी किया। कोर्ट ने कंप्यूटर को कंप्यूटर की जांच की है और कहा है कि डिवाइस पर विचार किया जाता है। प्रसंग की अवधि 22 उछाल ट्वीव डाइंग का कहना था कि शृंगार गौरी में दर्शन-पूजन की इजाज़त दी।

दिसंबर में दर्ज किए गए आदेश में कहा गया है कि यह वसीयत के हिसाब से होगा। ज्ञानवापी के अंदर पूजा-अर्चना कर रहे हैं. कि साल 1993 तक वाॅय आपकी पूजा सुंदरी देवी, गणेश, हनुमान्जी की पूजा पिंगू हैं। ये साल 1993 के बाद, जब हर दिन हर पूजा के लिए उपयुक्त हो, तो इस जगह पर एक ही दिन में चालू होना चाहिए।

यानि 15 अगस्त 1947 (ऑफ़ विद विद वर विरुषंग की गुणवत्ता के मामले में) ने कहा था कि यह स्थिति होने के लिए सही है। ️ लिहाजा️ लिहाजा️ लिहाजा️ लिहाजा️️️️️

टैग: ज्ञानवापी मस्जिद विवाद, यूपी खबर, वाराणसी समाचार



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.