अंजलि सिंह राजपूत

लुत्फ़। उत्तर प्रदेश की राजधानी राजधानी में शहर के घनत्व के लक्षण विकसित होने वाले जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र जारी किए गए हैं। ही एक मामले में नगर प्रबंधक की स्थिति होती है। अब इस घटना की जांच की जा रही है। आपके बाहरी कीटाणु ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍! मृत्यु प्रमाण पत्र पर दिनांक 23 अप्रैल, 2022 की रिकॉर्ड संख्या 134055 और पंजीकरण संख्या NNLKO-D- 2022 013067 दर्ज करें। इसके साथ ही मृत्यु प्रमाण पत्र 28 अप्रैल 2022 घोषित होगा।

बात की बात है कि यह मृत्यु प्रमाण पत्र किस प्रारूप में था, वो प्रारूप नगर का था। इस मृत्यु प्रमाण पत्र पर मृत्यु होने की जगह लिखा था, और न ही पता लिखा था। साथ ही इस प्रमाण पत्र पर नगर नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पीके सिंह ने दस्तखत किया। इस तरह से जांच की गई थी। अब इस पूरे मामले की जांच शुरू हो गई है।

नगर ने लोगों को
इन्द्रजीत सिंह ने इंसानों के लिए एक सूचना जारी की है जो कि संक्रमित व्यक्ति के लिए है। भारत सरकार की वेबसाइट https://crsorgi.gov.in से भी आवेदन पत्र प्रमाणित होता है। जन्मपत्रिका की ओर से मृत्यु और जो प्रमाण पत्र जारी किए गए हैं उन्हें QR कोड और बार कोड लिखा गया है।

प्राथमिकी दर्ज करें
इस मामले में इंद्रजीत में कीट ने नगर जाघे है। इस प्रकार के किसी भी प्रकार के प्रमाण पत्र को भी चेक किया जा सकता है.

टैग: नकली दस्तावेज, लखनऊ समाचार, नगर निगम, अप न्यूज हिंदी में



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.