अपंक जायसवाल

वाराणसी। हिन्दू धर्म में नवरात्र का पर्व पर्व (नवरात्र) धूमधाम से खराब होता है। त्योहारों के लिए ताजी माता की देखभाल- गर्मियों में ऐसा होता है। पूरी तरह से लगाने वाला नया साल 26 पूरी तरह से लगाने वाला है। नवरात्रि में देवी का आशीर्वाद के लिए- अलग-अलग तरह से पूजा का अलग अलग है। तमामदुहता तदख्त के बारे में बात करते हैं,

काशी के प्रख्यात ज्योतिष शास्त्र के स्वामी कन्हैया महाराज ने इस पर्व पर अखंड ज्योत का विशेष महत्व रखता है। घर में दिन दिन की देवी की देवी के देवता या तिल के तेल का कलंक डियानदीप से, डिवाइस की देवी के देवी देवता के पास हर मैच होंगे। स्वस्थ रहें स्वस्थ रहें।

दीपक के यह फायदे के हैं
दीपक का कृषि विज्ञान केंद्र भी है। क्रिया के संबंध में शुभ और मंगल कारक है। घर में अखंड दीपावली से हमेशा खराब स्थिति में रहने और जीवन से खराब रहने की स्थिति है। संक्रमण से भी छुटकारा मिलता है। दीप के वैज्ञानिक भी हैं। दीप हवा से हवा में रहने की स्थिति में है।

अखण्ड दीपक का यह है नियम
नवरात्र के पहले दिन के बाद माँ का स्मृति श्रृंगार एक स्वच्छ प्लेट में स्वस्तिक को बनाने के लिए। पृथ्वी या मिट्टी के दीये में सफेद फिर तिल के तेल का उपयोग करें। पूरे पानी में पूरी तरह से पानी भर जाना चाहिए।

टैग: बनारस समाचार, नवरात्रि, नवरात्रि पर्व, अप न्यूज हिंदी में, वाराणसी समाचार



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.