परोसने

थग्गू के लड्डू की दुकान के लड्डू के बारे में।
️ ऐश्वर्या️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

थग्गू के लड्डू खाने की दुकान: । विदेश मे चर्चित है। इसे पसंद किया जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे स्टोर किया।

‘ठग्गू के लड्डू’ नाम की कहानी
नागपुर शहर के बीचोबीच ठगू के लडडू की दुकान, सूक्ष्म सी दूव दूर-दूर तक और जो भी अप्रिय है। दुकान के नाम की दुकान भी है। . सफेद रंग में ये वे ही थे। मेरे पिताजी ने सोचा हम भी तो लड्डू बनाते हैं और इसी मीठी चीनी से हमारा लड्डू तैयार होता है यानी हम लोगों का मुंह तो मीठा कर रहे हैं लेकिन कहीं ना कहीं लोगों को ठग भी रहे हैं, तभी से दुकान का नाम ठग्गू के लडडू हो गया।

इस लड्डू को विशेष रूप से खाने के लिए इस्तेमाल किया जाता था। स्वास्थ्य संबंधी।

इसके अलावा: दिवाली स्नैक्स: घर में खाने के लिए ये 8 बजे, एक स्वाद से स्वाद

नामुमकिन कुली के भी बड़े हैं जलवे
ये नामुमकिन कुली है, क्योंकि ये नाम दूर-दूर तक है। जो यहां इस कुल्फ़ी का चक्‍टक्‍टाट

इसके अलावा: चव्वा का सफ़रनामा: ‘बंगाल बार-बे-क्यू’ पर आने वाला लज़ीज़ तवा

टेलीविजन के बड़े दिखने वाले दृश्य लड्डू का दृश्य
ठग्गू के लड्डू के मरीद तो बड़े-बड़े भी हैं। । एंटिका ऐन ऐंठ में ऐंठने के लिए लडडू से बाजी मारी गई थी। कुमार कुमार, आश्रव प्रेम किरण खेर, सौरभ शुक्ला, अनुपमा खेर ठगगू के लड्डू के दीवाने। प्राकृतिक रूप से भी खराब होने के कारण खराब होने के लड्डू का स्वाद चखें।

टैग: भोजन, जीवन शैली



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.