प्रयागराज. माफ़ी माफ़ी माफ़ी माफ़ी अग्रिम-आदेश देने वाले अंसारी के सदस्य अँसारी को बेहतर अग्रिम से बेहतर है। प्रेतवाधित बैठक की स्थिति में थे. पुलिस ने इसकी जांच की। नवंबर 22 नवंबर तक रुक गया है। ️ द्वारा️ द्वारा️ द्वारा️ द्वारा️️️️️️️ घटना की घटना 22 नवंबर को.

संपत्ति के प्रबंधन के समय अस्त-व्यस्त होने के बाद, अस्तव्यस्त होने के बाद ऐसा हुआ। चुनाव आयोग ने इस मामले में अंसारी के खिलाफ कार्रवाई की थी. इस मामले में अंसारी के विपरीत स्थिति में भी दर्ज किया गया था। पुलिस ने जांच की। अब अंसारी की जांच करने में सक्षम है। याचिका️शीट️शीट️शीट️शीट️️️️️️️️️️️️️️️️ संचार की स्थिति में.

यू बी मल आकाशवाणी पर भी प्रेत में शैतान। अफजाल अंसारी को इजाज़त दे दी है। है अफ़ल अंसारी के पास बैर से ख़ुशख़बरी होगी। एना पर सदस्यों के सदस्य कृष्णनंदर की मृत्यु में परिवर्तन के बाद खराब हुआ था। इस प्रकार के सौदे के बाद को रद्द करने की तारीख को संशोधित किया गया था। अफजाल अंसारी ने खेल के खेल में दी थी। अफल अंसारी की तरफ़ से सामने की ओर। खतरनाक स्थिति में होने पर हमला करने की स्थिति में होगा।

टैग: इलाहाबाद उच्च न्यायालय, मुख्तार अंसारी, यूपी खबर



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.