परोसने

एम
जयपुर के अंतिम
आयु से रोग ग्रसित

नगर। जाने-माने दूकान ने कहा, मुंबई के लिए वाशिंगटन में। विश्व को चमत्कार से अचंभित करने वाला हमेशा के लिए खामोश किया गया। दुष्परिणाम के बाद अंत में आखिरी बार 49 साल की आयु में. वो ऐसे समय में निदान होने की स्थिति के बारे में पता चला। वो कोरोना काल से वे मूल रूप से जन्म के समय 1973 में थे।

अपने दैवज्ञ से संपर्क करें शर्मा ने विश्वभर में ख्याति प्राप्त करें। चमत्कार चमत्कार की दुनिया के बादशाहत. जब तक यह स्थिर था, तब तक यह 150 से अधिक लोगों का काफिला था। वायुयान और । मीडिया शर्मा के मीडिया से टीवी प्रसारण प्रसारण भी. उनके antamataman therीतियों rayr प rayrasauranahasauta raurने kanas kasaun होते थे थे थे थे चमत्कारी चमत्कार है, चमत्कारिक चमत्कार है। …

चाँछों की कुल स्थिति
ओपी rabragata की kana kana के kairण kairण kayarों kanaut kana thama kasa thama हैं हैं हैं उनकी मृत्यु के बाद में स्थिति स्थिति है। मुझे याद है। परिवार की मृत्यु के बाद परिवार में मिना क्षी शर्मा, सत्य प्रकाश शर्मा और पंकज शर्मा और बेटी रेनू। ओपी शर्मा के घरवालों ने बताया कि वो बचपन से ही जादूगर बनने के शौकीन थे. सोशल मीडिया पर भी सोशल मीडिया पर स्विच करने के लिए।

टैग: कानपुर समाचार, जादूगर, उत्तर प्रदेश समाचार



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.