रिपोर्ट: अक्कूक जायसवाल

वाराणसी। धनतेरस (धनतेरस) का पर्व लक्ष्मी को प्रसन्नता और सुख देने के लिए अच्छा है। . स्वस्थ रहने की स्थिति में भी यह अच्छा रहता है।

इन सब से r इत r आप आप r चंद r की r की की ray rayrीद r भी r भी raur भी kasthamathakth प kaythauthikuthunthiraum प प अब आपके मन में यह सवाल होगा कि झाड़ू से माता लक्ष्मी का क्या संबंध है और क्या माता लक्ष्मी की कृपा मिलती है। तो वाराणसी (वाराणसी) के प्रख्यात वैज्ञानिक स्वामी कन्हैया महाराज ने झाड़ू को माता लक्ष्मी का चिह्न लगाया है। फसल गणना में भी मिलता है। ऐसी raphaumadauna है r धनते rurस r प rurीदने ranirीदने से rasak लक kaski प r प r हैं r हैं r हैं होती होती होती होती होती होती होती होती r हैं होती . वजह..

नंबर का विशेष ख्याल

मालिक के कन्हैया ने कहा कि विशेष देखभाल की बात है। धनतेरस पर झाड़ू की संख्‍या 1, 3, 5 में होती है। सभी प्रकार के समान उदाहरण के लिए 2-4 की संख्या

नहाना

झाड़-फूंक से सावधान रहना चाहिए। झाड़ू को भी ध्यान रखना चाहिए। डेटाबेस में रहने की जगह पर एक नज़र रखने के लिए। हमेशा से घर से दरदता बाँट कर रहे थे।

(ध्यान दें: यह खबर है।)

टैग: धनतेरस, यूपी खबर, वाराणसी समाचार



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.