न्यू मैंगलोर पोर्ट ट्रस्ट में एक जहाज पर लौह अयस्क लादा जा रहा है। फाइल फोटो | फोटो साभार: आर. ईश्वरराज

लेवी लगाने के छह महीने बाद सरकार ने कटौती की है इस्पात उत्पादों पर निर्यात शुल्क और लौह अयस्क शनिवार, 19 नवंबर, 2022 से प्रभावी है।

शुक्रवार देर रात जारी वित्त मंत्रालय की अधिसूचना के अनुसार, निर्दिष्ट पिग आयरन और स्टील उत्पादों के साथ-साथ लौह अयस्क पेलेट्स के निर्यात पर ‘शून्य’ निर्यात शुल्क लगेगा।

साथ ही 58 प्रतिशत से कम लौह तत्व वाले लौह अयस्क लम्प्स और फाइन्स के निर्यात पर निर्यात शुल्क ‘शून्य’ होगा।

58 प्रतिशत से अधिक आयरन वाले लौह अयस्क लम्प्स और फाइन्स के मामले में शुल्क की दर 30 प्रतिशत होगी।

अधिसूचना के अनुसार, इस्पात उद्योग में कच्चे माल के रूप में इस्तेमाल होने वाले एन्थ्रेसाइट/पीसीआई, कोकिंग कोल और फेरोनिकेल पर आयात शुल्क बढ़ाकर 2.5 प्रतिशत कर दिया गया है, जबकि कोक और सेमी-कोक के लिए इसे बढ़ाकर 5 प्रतिशत कर दिया गया है। पहले ‘शून्य’ से।

ड्यूटी में कटौती केंद्रीय इस्पात मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की इस सप्ताह की शुरुआत में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ हुई बैठक के बाद की गई है। बैठक में अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के अलावा नामित राजस्व सचिव संजय मल्होत्रा ​​ने भाग लिया।

वित्त मंत्रालय ने मई में किया था पिग आयरन और स्टील उत्पादों पर निर्यात शुल्क को ‘शून्य’ से बढ़ाकर 15 प्रतिशत कर दिया, एक ऐसा कदम जिसका उद्देश्य निर्यात को हतोत्साहित करना और कम कीमतों में मदद करने के लिए घरेलू उपलब्धता में वृद्धि करना था।

लौह अयस्क और कंसन्ट्रेट के निर्यात पर कर 30 प्रतिशत से बढ़ाकर 50 प्रतिशत कर दिया गया, जबकि लौह छर्रों पर 45 प्रतिशत शुल्क लगाया गया।

इस्पात उद्योग यह कहते हुए शुल्क वापस लेने की मांग कर रहा है कि घरेलू उत्पादन के लिए स्थानीय मांग पर्याप्त नहीं है।



Source link

By RSS

Leave a Reply

Your email address will not be published.